Sukanya Yojana: सरकारी बचत योजना में 1.5 लाख निवेश पर 4.48 लाख का रिटर्न

केंद्र सरकार बेटियों का भविश्य उज्ज्वल बनाने के उद्देश्य से अभिभावकों को सुकन्या बचत योजना का खाता खुलवाने के लिए प्रेरित कर रही है. योजना के तहत सालाना 10 हजार रुपये की रकम जमा की जा सकती है, जो मेच्योरिटी के समय 4.48 लाख रुपये हो जाएगी.
बेटियों के नाम पर निवेश करने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) चलाई जा रही है. योजना में 15 साल तक निवेश करके बच्चियों की पढ़ाई या शादी के लिए फंड एकत्रित किया जा सकता है. कोई भी माता-पिता का अभिभावक बच्चियों के नाम पर खाता खोल सकते हैं.

(Sukanya Yojana) सुकन्या खाते पर कितना मिलता है ब्याज

सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने वालों को 8 प्रतिशत का ब्याज मिलता है. योजना में खाता खालने के लिए बच्ची की उम्र 10 साल से कम होने चाहिए. जिसमें लगातार 15 साल तक निवेश किया जाता है. यह जॉइंट खाता होता है. जिसमें जब बच्ची की उम्र 21 साल हो जाती है तब खाते से पैसे निकाले जा सकते हैं. यह योजना पूरी तरह से टैक्स फ्री है.

1.50 लाख जमा करने पर मेच्योरिटी रकम 4.48 लाख होगी

यदि आपकी बेटी है और उसकी उम्र 2023 में 5 साल है तो आप सुकन्या खाता खुलवा सकते हैं और सालाना 10,000 रुपये जमा कर सकते हैं. इस तरह से अकाउंट मेच्योरिटी के समय तक आप कुल 1,50,000 रुपये जमा कर चुके होंगे और इस रकम पर ब्याज दर के तहत 2,98,969 रुपये जुड़ जाएगा. इस तरह से 2044 में मेच्योरिटी के समय आपको कुल रकम 4,48,969 रुपये मिलेगी.

सुकन्या योजना के फायदे और विशेषताएं

  1. सुकन्या योजना में वार्षिक न्यूनतम निवेश 250 रुपये है, जबकि अधिकतम निवेश 1,50,000 रुपये निर्धारित है. सुकन्या योजना का टेन्योर 21 वर्ष है.
  2. ब्याज की गणना कैलेंडर माह के लिए पांचवें दिन और महीने के अंत के बीच खाते में मौजूद सबसे कम राशि पर की जाती है. ब्याज प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में जमा किया जाता है.
  3. आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत मूल राशि और ब्याज के साथ मेच्योरिटी पर मिलने वाली रकम टैक्स फ्री होती है.
  4. भारत में कहीं भी डाकघर या बैंक से दूसरे में खाता ट्रांसफर किया जा सकता है. वहीं, मैच्योरिटी के बाद भी खाता बंद नहीं करने पर ब्याज मिलता है.

सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दरें: 2023

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए ब्याज दरें Q3 अक्टूबर से दिसंबर (फाइनेंशियल ईयर 2023-24) के लिए 8% प्रति वर्ष निर्धारित की गई हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए योग्यता

  • सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट केवल बालिका के नाम पर माता-पिता या कानूनी अभिभावकों द्वारा खोला जा सकता है
  • अकाउंट खोलने के समय बालिका की आयु 10 वर्ष से कम होनी चाहिए
  • एक बालिका के लिए एक से अधिक सुकन्या समृद्धि अकाउंट नहीं खोले जा सकते हैं
  • एक परिवार को केवल दो SSY अकाउंट को खोलने की अनुमति है 

नोट: सुकन्या समृद्धि अकाउंट कुछ विशेष मामलों में दो से अधिक लड़कियों के लिए खोला जा सकता है जो नीचे दिए गए हैं-

  • यदि जुड़वां या तीन लड़कियों के जन्म से पहले एक लड़की का जन्म होता है या अगर पहले एक साथ तीन बच्चे पैदा होते हैं, तो तीसरा अकाउंट खोला जा सकता है।
  • यदि जुड़वां या तीन लड़कियों के जन्म के बाद एक लड़की का जन्म होता है, तो तीसरा SSY अकाउंट नहीं खोला जा सकता है

सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश के लाभ

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के हिस्से के रूप में शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना कई प्रकार के लाभ प्रदान करती है। इस योजना के कुछ प्रमुख लाभ इस प्रकार हैं:

  • अधिक ब्याज दर- PPF जैसी अन्य सरकारी योजनाओं की तुलना में SSY बेहतर ब्याज दर वाली योजना है। इस योजना में अभी यानी Q3 वित्तीय वर्ष 2023-24  के मुताबिक 8% की दर से ब्याज दिया जा रहा है।
  • गारंटीड रिटर्न- चूंकि सुकन्या समृद्धि योजना सरकारी योजना है, इसलिए यह गारंटीड रिटर्न प्रदान करती है।
  • टैक्स बेनिफिट- सुकन्या समृद्धि योजना की धारा 80C के तहत सालाना 1.5 लाख रु. तक टैक्स में छूट मिलती है।
  • अपनी सहूलियत के मुताबिक निवेश करें – कोई भी व्यक्ति एक वर्ष में न्यूनतम 250 रु. और अधिकतम 1.5 लाख रु. प्रतिवर्ष का डिपॉज़िट कर सकता है। यह सुनिश्चित करता है कि आपकी आर्थिक स्थिति चाहे जैसी हो, आप उसी के मुताबिक इस योजना में निवेश कर सकते हैं।
  • कंपाउंडिंग का लाभ- सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) एक लंबी अवधि की निवेश योजना है क्योंकि यह वार्षिक कंपाउडिंग (चक्रवृद्धि) ब्याज का लाभ प्रदान करती है। इसलिए, अगर आप कम निवेश भी करते हैं तो आपको लंबी अवधि में अच्छा रिटर्न मिलेगा।
  • आसानी से ट्रांसफर- सुकन्या समृद्धि अकाउंट को देश के एक हिस्से से दूसरे (बैंक/ डाकघर) में स्वतंत्र रूप से ट्रांसफर किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) डिपॉज़िट लिमिट

कोई भी व्यक्ति एक वर्ष में न्यूनतम 250 रु. और अधिकतम 1.5 लाख रु. प्रतिवर्ष का डिपॉज़िट कर सकता है। आपको अकाउंट खोलने की तारीख से 15 साल तक हर साल कम से कम न्यूनतम राशि अकाउंट में जमा करनी होगी। इसके बाद अकाउंट में मैच्योरिटी तक ब्याज मिलता रहेगा।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) अवधि/ मैच्योरिटी पीरियड

सुकन्या समृद्धि योजना की अवधि बालिका के 21 वर्ष के होने या 18 वर्ष की आयु के बाद उसकी शादी होने तक होती है। हालांकि, यह निवेश आपको अकाउंट खोलने की तारीख से 15 साल तक ही करना होता है। इसके बाद अकाउंट में मैच्योरिटी तक ब्याज मिलता रहेगा, भले ही इसमें कोई डिपॉज़िट न किया गया हो।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) की अन्य प्रमुख विशेषताएं

  • यदि कोई SSY अकाउंट होल्डर 250 रु. की न्यूनतम राशि भी जमा नहीं कर पाता है, तो उसके अकाउंट को ‘डिफ़ॉल्ट अकाउंट’ कहा जाएगा। लेकिन इस डिफ़ॉल्ट अकाउंट पर भी मैच्योरिटी की तारीख तक, लागू ब्याज मिलता रहेगा। हालांकि, डिफॉल्ट किए गए अकाउंट को अकाउंट खोलने के 15 साल पूरे होने से पहले कम से कम 250 रु. + 50 रु.(जुर्माना) का निवेश करके फिर से रीओपन किया जा सकता है।
  • एक बालिका 18 वर्ष की होने के बाद, वह पोस्ट ऑफिस/बैंक जहां उसका अकाउंट है, सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करके SSY अकाउंट मैनेज कर सकती है।
  • लड़की की उम्र 18 वर्ष से अधिक होने पर या उसके 10वीं पास करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए अकाउंट से 50% तक पैसा निकाला जा सकता है। पैसा एक साथ या फिर किस्तों में मिल सकता है। एक साल में एक ही बार और अधिकतम पांच साल तक किस्त में पैसा ले सकते हैं।

SSY अकाउंट का समय से पहले बंद होना

18 वर्ष की हो जाने पर शादी के खर्च के लिए बालिका द्वारा ही SSY अकाउंट समय से पहले बंद किया जा सकता है। हालाँकि, इसके अलावा भी कुछ विशेष स्तिथियों में अकाउंट बंद किया जा सकता है और संबंधित राशि निकाली जा सकती है:

  • अकाउंट होल्डर की अचानक मृत्यु: अगर योजना में रजिस्टर्ड बालिका की दुर्भाग्यवश मृत्यु हो जाती है, तो माता- पिता या कानूनी अभिभावक अकाउंट में जमा राशि और ब्याज को निकाल सकते हैं। नॉमिनी के अकाउंट में यह राशि तुरंत जमा कर दी जाएगी। इसके अलावा, माता- पिता या कानूनी अभिभावक को अकाउंट होल्डर की मृत्यु संबंधित दस्तावेज़ जमा कराने होंगे जो संबंधित अधिकारियों द्वारा वेरिफाई कराए होने चाहिए।
  • अकाउंट जारी रखने में असमर्थता: अगर केंद्र सरकार की तरफ से ऐसा कोई निर्देश है कि निवेशक अकाउंट में निवेश करने के योग्य नहीं है तो सुकन्या समृद्धि अकाउंट समय से पहले बं‍द किया जा सकता है। यदि अकाउंट में निवेश करने की वजह से जमाकर्ता को किसी भी प्रकार की आर्थिक कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है तो इसे बंद किया जा सकता है। इसके अलावा, अकाउंट को बंद करने के लिए संबंधित अधिकारियों से अनुमति लेना ज़रूरी है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि केवल मेडिकल इमरजेंसी जैसे विशेष मामलों में ही सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अकाउंट को बंद किया जाएगा।

घर बैठे FD अकाउंट खोलें, 6.5% का ब्याज कमाएं और साथ ही फ़्री स्टेप-अप क्रेडिट कार्ड पाएं

  • न्यूनतम ₹2000 की भी खोल सकते हैं FD
  • FD राशि = कार्ड क्रेडिट लिमिट
  • तुरंत डिजिटल कार्ड प्राप्त करें

सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश कैसे करें

आप इस योजना में अपने नजदीकी किसी भी बैंक ब्रांच के माध्यम से निवेश कर सकते हैं। आपको फॉर्म और प्रारंभिक डिपॉज़िट के चेक/ड्राफ्ट के साथ KYC दस्तावेज़ जैसे पासपोर्ट, आधार कार्ड जमा करने होंगे। इसके साथ ही आप आरबीआई की वेबसाइट और नीचे दिए गए संस्थानों और बैंकों की वेबसाइट से से SSY के लिए नया अकाउंट  आवेदन फॉर्म डाउनलोड भी कर सकते हैं।

  • भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट
  • द इंडिया पोस्ट वेबसाइट
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वेबसाइट (SBI, PNB, BOB , आदि।)
  • इसमें शामिल निजी क्षेत्र के बैंकों की वेबसाइट जैसे, ICICI बैंक, एक्सिस बैंक और HDFC बैंक

हालाँकि SSY आवेदन फॉर्म डाउनलोड करने के लिए कई स्रोत हैं, लेकिन फॉर्म में मांगी गई सूचना सभी में समान रहेगी।